Skip to content

Gurukul Tales:

Teacher-Student Stories from Ancient India

Gurukul Tales - Teacher-Student Stories from Ancient India
A handpicked compilation, a retelling of the mythological teacher-student stories.

‘Gurukul Tales’ showcases the finest of teachers and the best of students from ancient India. Collected from Ramayana, Mahabharata, and the Puranas, these stories will enchant kids and adults alike.

Have you wondered how Prahlada became the greatest devotee of Lord Vishnu? Or do you know what Dronacharya had to do in order to make Arjuna the best archer?

From Aruni’s selfless dedication towards his Guru to Parashurama’s curse to Karna, find the most mysterious stories and a few unknown facts from the ancient history of India.

Nine stories are illustrated with nine images for the kids to give a glimpse of the ancient culture.

Written in simple language and appropriate for all ages, these stories and characters will lead the reader on a spiritual path. Inculcating good values in the formative years will help the youth to strengthen their teacher-student relationship by developing respect. The ancient tales discuss the matters of obedience, dedication, bravery, and courage for the students. For the modern teachers, the sages of India have set examples of responsibility, justice, and hard work, as these tales will show you.

Indulge yourself and find love in the liberating relation between a Guru and a Shishya.

गुरुकुल की कथाएं:

पौराणिक भारत की गुरु-शिष्य परम्परा

Gurukul Tales - Teacher-Student Stories from Ancient India
एक चुना हुआ संकलन, पौराणिक शिक्षक-छात्र की कहानियों का पुनर्कथन।

लघु कथाओं का एक चुना हुआ संकलन कर, “गुरुकुल की कथाएं” नामक पुस्त्क प्राचीन भारत के बेहतरीन शिक्षकों और सर्वश्रेष्ठ छात्रों को प्रदर्शित करता है। रामायण, महाभारत और पुराणों से एकत्रित, ये कहानियाँ बच्चों और वयस्कों को समान रूप से मंत्रमुग्ध कर देंगी।

क्या आपने सोचा है कि प्रह्लाद भगवान विष्णु के सबसे बड़े भक्त कैसे बन गये? या क्या आप जानते हैं कि अर्जुन को सर्वश्रेष्ठ धनुर्धर बनाने के लिए द्रोणाचार्य को क्या करना पड़ा था?

अपने गुरु के प्रति आरुणि के निस्वार्थ समर्पण से लेकर परशुराम के कर्ण को दिए शाप तक, भारत के प्राचीन इतिहास की सबसे रहस्यमयी कहानियाँ और कुछ अज्ञात तथ्यों की खोज करें ।

बच्चों को प्राचीन संस्कृति की एक झलक देने के लिए नौ कहानियों को नौ छवियों के साथ चित्रित किया गया है।

सरल भाषा में लिखी गई और सभी उम्रों के लिए उपयुक्त, ये कहानियां और उनके पात्र आपको आध्यात्मिक पथ पर ले जाएंगे। प्रारंभिक वर्षों में अच्छे मूल्यों को विकसित करते हुए, ये कहानियाँ युवाओं को गुरु-सम्मान का ज्ञान दे कर शिक्षक-छात्र संबंधों को मजबूत करने में मदद करेंगी। ये प्राचीन कथाएँ छात्रों के लिए आज्ञापालन, समर्पण, बहादुरी और साहस के गुणों की चर्चा करती हैं। आधुनिक शिक्षकों के लिए, भारत के संतों ने जिम्मेदारी, न्याय और कड़ी मेहनत की मिसाल कायम की है जैसा कि ये कहानियाँ आपको दिखाएँगी।

गुरु और शिष्य के बीच जो पवित्र संबंध है, उसका अनुभव कर आनंद प्राप्त करिये ।अपने बचपन को याद करिये और अपने छात्र काल के हर्ष का स्मरण करिये ।

Subscribe

Subscribe to a weekly newsletter and never miss a new post. I promise I won’t spam you.

Subscribe

Subscribe to a weekly newsletter and never miss a new post. I promise I won’t spam you.